“ऐतिहासिक है संघ प्रमुख मोहन भागवत का विज्ञान भवन व्याख्यान” in Punjab Kesari

भ्रष्टाचार के कीचड़ में अच्छी तरह नहाए-धोए, लिपटे, सने, डूबे फर्जी गांधी परिवार के पूत राहुल (सपूत या कपूत ये आप तय करिए) पूछ रहे हैं कि देश को संगठित करने वाला राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कौन होता है, देश को संगठित होना होगा तो वो खुद हो जाएगा। राहुल जैसा आदमी, जिसकी पूरी चुनाव नीति अंधी इस्लामिक-ईसाई सांप्रदायिकता, नफरत, दुष्प्रचार, देशद्रोहियों से सांठगांठ, अलगाववाद, क्षेत्रीय-जातीय विभाजन पर आधारित हो, अगर ऐसे सवाल न पूछता तो आश्यर्च होता। असल में राहुल और उनके पूर्वजों ने संघ के खिलाफ नफरत फैलाने की दसियों साल से लगातार साजिश की। अब जब संघ प्रमुख मोहन भागवत ने विज्ञान भवन में आयोजित व्याख्यान माला में इसका जवाब सकारात्मकता, सम्मान और स्नेह से दिया तो वो तिलमिला गए। संसद में प्रधानमंत्री मोदी को गले लगाकर ‘प्यार का ढोंग’ करने वाले राहुल को समझ नहीं आया कि भागवत को क्या जवाब दें? उन्हें लग रहा है कि समावेशी संस्कृति की बात करके भागवत कहीं उन लोगों को कांग्रेस से दूर न कर दें जिन्हें ‘हिंदुओं का हौवा’ दिखाकर कांग्रेस ने अपने साथ रखने की कोशिश की है।

कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी कि भागवत की व्याख्यान माला ने वास्तव में इतिहास रच दिया। कांग्रेस और सीपीएम जैसी कास्टिस्ट इस्लामिक कम्युनल (सीआईसी) पार्टियों ने बड़ी मेहनत से कई दशकों तक संघ की जैसी तस्वीर बनाने की कोशिश की थी, भागवत ने एक झटके में उसके चीथड़े उड़ा दिए। ऐसा नहीं है कि उन्होंने ये या ऐसे विचार पहले नहीं व्यक्त किए, लेकिन ये पहली बार हुआ जब दिल्ली के सर्वाधिक प्रतिष्ठित विज्ञान भवन से उन्होंने विश्व को संबोधित किया और दुनिया ने न केवल उन्हें ध्यान से सुना, बल्कि उन्होंने जो कहा उसे गहराई से गुना भी।

उनके संबोधन से सबसे ज्यादा निराशा तो कांग्रेस जैसी सीआईसी पार्टियों को हुई जिन्होंने संघ को ‘हिंदू सांप्रदायिक’ ठहरा कर इस कार्यक्रम का बहिष्कार किया था। उनके मुंह पर जोरदार तमाचा तब लगा जब भागवत ने कहा कि मुसलमानों के बिना हिंदुत्व संभव ही नहीं है। उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा, ”हिंदू राष्ट्र का अर्थ ये नहीं कि उसमें मुसलमानों के लिए कोई जगह नहीं। जिस दिन ऐसा कहा जाएगा उस दिन हिंदुत्व ही नहीं रहेगा। हिंदुत्व तो वसुधैव कुटुम्बकम् की बात करता है।“

उन्होंने कहा, ”संघ ‘अल्पसंख्यक’ शब्द को नहीं मानता। हम तो सबको अपना मानते हैं। यह शब्द ब्रिटिश काल में भारत आया, पहले ये नहीं था। मेरा मानना है कि जिन मुस्लिम बस्तियों के पास संघ की शाखा है, वहां मुस्लिम ज्यादा सुरक्षित महसूस करते हैं। मैं तो कहता हूं सबको संघ में आकर संघ को देखना चाहिए और अगर हमारी बात में कोई कमी मिले तो फिर कहिए“।

वो यहीं नहीं रूके, उन्होंने संघ के दूसरे सरसंघचालक गुरू गोलवलकर की विवादित पुस्तक ‘बंच आॅफ थाॅट्स’ के बारे में भी खुल कर अपने विचार रखे जिसमें मुसलमानों पर कुछ कथित रूप से विवादित टिप्पणियां की गईं हैं। उन्होंने कहा, “‘बंच आॅफ थाॅट्स’ गुरू जी के भाषणों का संग्रह है जो एक विशिष्ट संदर्भ में दिए गए थे और वो शाश्वत नहीं हैं। संघ हठधर्मी नहीं है, जैसे समय बदलता है, वैसे हमारे विचार भी बदलते हैं। डाॅक्टर हेडगेवार ने कहा था हम बदलते समय के अनुसार खुद को ढालने के लिए स्वतंत्र हैं।”

सीआईसी कांग्रेस ने संघ को ‘हिंदू आतंकवादी संगठन’ घोषित करने की भरपूर साजिश की। हेट प्रीचर जाकिर नायक को शांति का मसीहा बताने वाले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने तो मुंबई हमलों पर एक किताब का विमोचन तक किया जिसका नाम था – ‘मुंबई हमले, आरएसएस की साजिश’। लेकिन भागवत ने स्वतंत्रता संग्राम में कांग्रेस के योगदान की प्रशंसा की और कहा कि इस पार्टी में भी अनेक ऐसे महानुभाव हुए जिनसे हम अब भी प्रेरणा लेते हैं। ध्यान रहे, उन्होंने सोनिया और राहुल के नेतृत्व वाली कांग्रेस पर तो कोई टिप्पणी नहीं की, लेकिन ये अवश्य कहा, “हम लोग तो सर्वलोक युक्त भारत वाले लोग हैं, मुक्त वाले नहीं हैं”।

सीआईसी पार्टियों ने लंबे समय तक संघ के बारे में ये छवि बनाने की कोशिश की कि संघ में तानाशाही चलती है और वो भारत के झंडे और संविधान को नहीं मानता। लेकिन उन्होंने स्पष्ट कर दिया, “संविधान में सभी भारतीयों की सहमति है। इसका पालन करना हम सबका कर्तव्य है….मैंने जो कुछ भी कहा है वो संविधान के अनुसार ही कहा है। संघ संविधान की प्रधानता स्वीकार करता है और हम इसका पूरी तरह सम्मान करते हैं”।

यूपीए के जमाने में कहने को तो मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे, लेकिन असली राज तो 10 जनपथ से चलता था। सब मनमोहन सरकार को ‘रिमोट कंट्रोल’ सरकार कहते थे। इसके जवाब में सीआईसी कांग्रेस ने भ्रम फैलाना शुरू कर दिया कि मोदी सरकार का रिमोट कंट्रोल नागपुर स्थित संघ के कार्यालय में है। भागवत ने इसे सरासर गलत बताया, ”अक्सर लोग कयास लगाते हैं कि मोदी सरकार के किसी निर्णय के लिए संघ मुख्यालय से फोन आया होगा, ये निराधार है। सरकार में जो लोग काम कर रहे हैं, वो वरिष्ठ हैं और राजनीति में उनका अनुभव हमसे भी कहीं अधिक है। भाजपा न तो किसी सलाह के लिए हम पर निर्भर रहती है और न ही हम सलाह देते हैं। अगर उन्हें कोई सुझाव चाहिए होता है और हमारे पास देने के लिए कुछ होता है तो हम देते हैं“।

सीआईसी पार्टियों ने लंबे अर्से तक संघ को ‘ब्राह्मणवादी’, ‘मनुवादी’ कह कर एक खास वर्ग से बांधने की कोशिश की और ये प्रचार किया कि संघ आरक्षण विरोधी है। संघ प्रमुख ने जोर देकर कहा कि, “हम किसी की जाति नहीं पूछते। हम विषमता में विश्वास नहीं रखते। हम चाहते हैं कि जाति विभेद पूरी तरह समाप्त हो, लेकिन ये लंबी यात्रा है। हम अंतरजातीय विवाह के खिलाफ नहीं हैं। अगर देश में सर्वे करवाया जाए तो संघ के स्वयंसेवकों में अंतरजातीय विवाह के उदाहरण सबसे ज्यादा मिलेंगे”। उन्होंने बिना लागलपेट के कहा, “संघ सामाजिक आधार पर आरक्षण का समर्थन करता है। संविधान सम्मत सभी तरह के आरक्षण का संघ समर्थन करता है। हमारे संविधान में सामाजिक आधार पर आरक्षण का प्रावधान किया गया है। ये जारी रहना चाहिए, ऐसा संघ का विचार है। समस्या आरक्षण से नहीं, इसपर होने वाली राजनीति से है। सवाल ये है कि समाज में बराबरी कैसे आएगी? तो जो ऊपर हैं, वो थोड़ा नीचे झुकेंगे और जो नीचे हैं वे एड़ियां ऊंची करेंगे तब ही बराबरी आएगी। समाज के कुछ वर्गों को निर्बल हमने बनाया है। निर्बल रहे समाज के वर्गों को ऊपर लाने के लिए हमें सौ-डेढ़ सौ साल परेशानी आती है तो भी उसे हमें स्वीकार करना होगा”।

गाय के नाम पर देश के कुछ हिस्सों में हिंसक घटनाएं हुईं। सीआईसी पार्टियों ने आंख मूंद कर इसके लिए संघ और उसके सहयोगी संगठनों को जिम्मेदार ठहरा दिया। हालांकि वो अब तक एक भी घटना में संघ का हाथ नहीं साबित कर पाए। इस विषय पर उन्होंने कहा, “गाय के नाम पर हत्या करने वालों पर कड़ी कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए। गाय या किसी भी विषय पर हिंसा करना अनुचित है। कानून हाथ में लेने वालों पर कार्रवाई होनी चहिए”।

सीआईसी पार्टियां अक्सर संघ को दकियानूस बताकर उसे महिला विरोधी साबित करने की कोशिश करती रहीं हैं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल तो इस विषय में बिना जाने-समझे कुछ भी बोलते रहे हैं। भागवत ने महिलाओं के लिए बराबरी के दर्जे की वकालत की। उन्होंने कहा कि हम महिलाओं को जगदंबा स्वरूप मान कर पूजा तो करते हैं परंतु वास्तव में उनकी हालत बहुत खराब है। हमें उनकी स्वतंत्रता और सशक्तीकरण के लिए काम करने की आवश्यकता है और इसकी शुरूआत घर से ही करनी होगी।

स्पष्ट है संघ प्रमुख ने देश-समाज से जुड़े हर महत्वपूर्ण विषय पर विचार रखे। लेकिन उनके विचारों के मूल में एक ही सूत्र था – देश प्रथम, वस्तुस्थित का ईमानादारी से संज्ञान लेना और देश के सर्वांगीण विकास के लिए प्रयास करना। संभवतः यही कारण था कि उन्होंने कश्मीर में अलगाववाद और इस्लामिक कट्टरवाद को बढ़ावा देने वाले अनुच्छेद 35 ए और 370 का निःसंकोच विरोध किया। कुल मिलाकर भागवत ने स्पष्ट रूप से ये संदेश दिया कि संघ का उद्देश्य भारतीय नागरिकों का नैतिक और चारित्रिक विकास है ताकि व्यवस्थागत कमियों के बावजूद वो अपने कंधों पर देश को नई ऊंचाई तक ले जा सकें। संघ समाज में एकता, नैतिकता और शुचिता का पक्षधर है, इसलिए वो संगठन में भी इसका पूरा ध्यान रखता है।

आज चार करोड़ से भी अधिक लोग दुनिया के सबसे बड़े सामाजिक-सांस्कृतिक संगठन अर्थात राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से प्रत्यक्ष अथवा परोक्ष रूप से जुड़े हैं। रोज इसकी 60,000 से अधिक शाखाएं लगती हैं। संघ से प्रेरित तीन दर्जन से अधिक संस्थाएं देश भर में 1,70,000 से ज्यादा समाजकल्याण की परियोजनाएं चला रही हैं जिनका सबसे अधिक लाभ दलित-आदिवासी वर्ग को होता है। संघ के अमूल्य और अतुलनीय सामाजिक और सांस्कृतिक योगदान के बावजूद सीआईसी पार्टियों ने वोट बैंक की राजनीति के कारण इसे सिर्फ कट्टरवादी हिंदू संगठन के रूप में पेश किया। लेकिन भागवत ने इसकी परवाह न करते हुए हिंदुओं को धर्मांधता के खिलाफ सचेत किया, “विश्व में हिंदुत्व की स्वीकार्यता बढ़ रही है। पर भारत में पिछले डेढ़ से दो हजार साल में धर्म के नाम पर अधर्म बढ़ा, रूढ़ियां बढीं इसलिए भारत में हिंदुत्व के नाम पर रोष होता है। धर्म के नाम पर बहुत अधर्म हुआ है। इसलिए अपने व्यवहार को ठीक करके हिंदुत्व के सच्चे विचार पर चलना चाहिए। सबसे पहले हिंदू को सच्चा और अच्छा हिंदू बनना पड़ेगा“।

कहना न होगा भागवत ने ये साबित कर दिया कि अगर भारत में सच्चे अर्थों में कोई प्रगतिशील, उदारवादी, सुधारवादी, समावेशी, आधुनिक, राष्ट्रवादी संगठन है तो वो है – राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ।

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *